Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay

Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay

Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay

Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay, “Aaj ke is dour me har koi insan ye hi chahta hai ki samne wala uski har baat mane. Lekin chahte hue bhi ye nhi ho pata hai. Aaj kal kisi ke pass baat karne tak ka time nhi hota hai vo usko baat kyo sunega or manega. Tabhi purane samye se hi asia hota rha hai ki insan apni baat manvane ke liye kisi molvi ya tantrik ka sahara leta hai or apni har baat ko manva leta hai.

Aaj Hum isi bare me baat karne ja rhe hai ki ek insan kisi dusre insan se apni baat kaise manva sakta hai. Isko karne se vo apki har baat manega or sath hi vo aap bologe vo karega bhi. Isliye hum apke ek Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay me se ek upay batane ja rhe hai.

किसी से अपनी बात मनवाने के खास उपाय

  • इसके लिए नदी के झाड़,  वृक्ष की जड़ लाकर उसमें कूड़े की छान मिलावें तथा चूर्ण कर लें,  और फिर इन दोनों के बराबर श्मशान की राख मिलाकर जिसके ऊपर इसे डाला जाएगा तो वह वश में हो जायेगा।
  • सेंधा नमक,  देशी कपूर को पीसकर शुद्ध शहद में मिलाकर मैथुन किया जाए तो स्त्री वश में हो जाती है।
  • कौवे और उल्लू की बींट दोनों को एक साथ मिलाकर गुलाबजल में घोंटे तथा उसका माथे पर तिलक लगाये। अब जिस स्त्री के सम्मुख भी जाया जाएगा, वह सम्मोहित होकर जान तक न्योछावर कर दने को उतावली हो जाएगी।
  • नीलकमल,  गूगल और अगर – इन सबको सम भाग लेकर अपने सब अंगों में घूनी दें। तो उसे देखते ही सभी लोग मोहित हो जाते है।
  • चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन चीते के पेड़ को न्योता आवें। और फिर नौमी के दिन उसे लाकर धूप दीप देकर अपने पास रखें तो लोग मोहित हो जाते है।
  • रविवार के दिन तुलसी के बीजो को सहदेई के रस में पीसकर तिलक करने से स्त्री देखते ही मोहित हो जाती है ।

शत्रु और भूत को दूर करने के लिए

  • शत्रु की विष्ठा तथा बिच्छू एक हंडिया में बंदकर ऊपर से मिट्टी लगाकर पृथ्वी में गाड़ दें तो शत्रु का मलावरोध मरण – तुल्य कष्ट पाने लगता है और भूमि खोदकर हांड़ी खोल देने से पुनः सुखी हो जाता है।
  • शेवत पुनर्नवा को चावल के पानी के साथ शुभ मुहूर्त में जो पिता है, उसे सर्प काटने का भय नहीं होता ।
  • आषाढ़ शुक्ल पंचमी के दिन जो अपनी कमर से सिरिस की जड़ बांधता है। तथा चावल का पानी पिता है। उसे सर्पदंश का भय नहीं होता ।
  • रविवार को काले धतूरे की अभिमंत्रित जड़ बांह में बांधे तो भूत बाधा जाए ।
  • लहसुन एकड़ीया के रस में हिंग पीसकर भूत-ग्रस्त को सुन्घावे तो भूत भाग जाये।
  • रविवार को तुलसी – पत्र , काली मिर्च प्रत्येक 8-8 तथा सहदेई की जड़ लाकर तीनों
  • को ताम्बे के यंत्र से भर धूप देकर धारण करने से भूतादी दूर हो जाते है।
  • मुंडी, गोखरू और बिनौला समभाग लेकर गौमूत्र में पीसकर ब्रह्मराक्षस – ग्रस्त को सुन्घावे तो ठीक हो जाता है।

Kisi Se Apni Baat Manwane Ke Khas Upay ko karne se phle humhre molana ji se ek bar baat kar le. Inko karne me koi bhi muskil aati hai to vo tumhri madad jarur karege.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *